Breaking News

एक धड़ और दो सिरों वाली ये छिपकली जिंदा है और विज्ञान के लिए रहस्य बनी हुई है, जानिए रहस्य

एक धड़ और दो सिरों वाली ये छिपकली जिंदा है और विज्ञान के लिए रहस्य बनी हुई है, जानिए रहस्य

किसी जीव का दो सिरों के साथ जन्म लेना बहुत बार घटित हो चुका है पर यह पहली बार हुआ है कि एक जीव दो सिर लेकर पैदा हुआ और जीवित भी है.
जीव विज्ञान को चुनौती दी एक छिपकली ने, जिसके जन्म से ही दो सिर हैं और वह अपना जीवन जी भी रही है. आज हम इसी अज्ञात सच्चाई को जानेंगे.
एक धड़ और दो सिरों वाली ये छिपकली जिंदा है और विज्ञान के लिए रहस्य बनी हुई है, जानिए रहस्य

Facts about Lizerd

यह कैसे सम्भव है?

ऐसे जीवों को देख कर सबसे पहला सवाल जो मन मे आता है वो यह कि यह होता क्यों व कैसे है?
दरअसल जीव जब मां के गर्भ में होता है और गर्भ में उसके साथ एक अन्य भ्रूण भी पल रहा होता है तब यह घटना घटित होती है. अगर किसी कारणवश दूसरे भ्रूण की अविकसित अवस्था मे ही मौत हो जाए या वो भ्रूण अविकसित ही रह जाए और दूसरे विकसित भ्रूण से जुड़ जाए तब जो जीव जन्म लेता है उसके कई अंग हो सकते हैं फिर चाहे बात हो सिर की या हाथ, पैर आदि की. अब जानते हैं कि क्यों दो सिर वाले जीव जिंदा नहीं रहते और क्यों यह छिपकली खास है.

मृत्यु का कारण-

अधिकांशतः ये जीव मृत ही पैदा होते हैं जो जीवित रहते हैं उनकी संख्या बेहद कम है. और जीवित भी कुछ समय बाद मर जाते हैं, इनकी मौत का सिद्धांत बहुत साधारण है और समझने में बेहद आसान है कि अगर किसी जीव के दो सिर होंगे तो उन सिरों में दिमाग भी होगा. अलग-अलग दिमाग और एक शरीर, सोचिए आपके दो सिर हैं एक के अनुसार आप को आलू खाना चाहिए, दूसरे के अनुसार आपको टमाटर खाना चाहिए. अंत मे आप भूखे ही रह जाएंगे. ऐसा ही कुछ यम जीवों के जीवन की हर घटना के साथ होता है, इसके अलावा मानसिक नियंत्रण भी नहीं रहता और शरीर कौनसे दिमाग के अनुसार चलेगा यह ये जीव तय नहीं कर पाते और विभिन्न समस्याओं की वजह से मर जाते हैं.

पर यह छिपकली जीवित है क्योंकि वैज्ञानिकों की एक टीम ने इसके ऊपर बेहद रिसर्च की है और इसके दिमाग को नियंत्रित कर के रखा है जिससे यह सभी क्रियाएं कर पाती है.

No comments